यह ग्रह करवाते है आत्महत्या.. जाने कारण और उपाय।

यह ग्रह करवाते है आत्महत्या.. जाने कारण और उपाय।

आज का समय प्रतिस्पर्धा का है ।जिसके चलते व्यक्ति तनाव का शिकार हो जाता है आवेश में आकर आत्म घातक कदम उठा लेता है ।अभी हाल में ही Sushant Singh Rajput के आत्महत्या की खबर में लोगों को स्तब्ध कर दिया है।ज्योतिष (Astrology) विद्या के अनुसार कोई ग्रह- नक्षत्र की चाल विपरीत प्रभाव के चलते व्यक्ति आत्मघातक कदम को उठाने के लिए विवश हो जाता है। हम जानते अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रख्यात Astrologer से इस के कारण और उसके साथ ही इस समस्या से निवारण AstroKavach के माध्यम से जानते हैं।

चंद्रमा की उपस्थिति
Astro Dino के अनुसार चंद्रमा मन की स्थिति को प्रभावित करता है। यदि मन की स्थिति नकारात्मक अथवा कमजोर पड़ जाती है ज्योतिष की दृष्टि से चंद्रमा कमजोर माना जाता है, कमजोर होने से व्यक्ति अवसाद की स्थिति में पहुंच जाता है।

बुध ग्रह आत्महत्या से संबंध

बुध ग्रह व्यक्ति के मन मस्तिष्क अर्थात बुद्धि को प्रभावित करता है। बुध ग्रह व्यक्ति के जीवन पर विपरीत प्रभाव डालती है ।व्यक्ति में निर्णय लेने की क्षमता निष्क्रिय हो जाती है।

सूर्य ग्रह का जातक पर प्रभाव

ज्योतिष की दृष्टि से सूर्य ग्रह जातक की आत्महत्या से किसी भी प्रकार से जुड़ा नहीं है । परंतु यदि कुंडली की बात करें तो सूर्य की स्थिति यदि कमजोर हो जाए, तो वह उसके मन मस्तिष्क पर विपरीत प्रभाव पड़ता है ,जिससे व्यक्ति आत्महत्या करने को विवश हो जाता है।

शनि ग्रह आत्महत्या से संबंध

ज्योतिष अंक विद्या के जानकारों के अनुसार शनि ग्रह को दुखों कारण माना जाता है। यदि कुंडली में शनि की स्थिति कमजोर हो, तो इससे भी व्यक्ति हताशा का शिकार हो जाता है । शनि की अच्छी स्थिति व्यक्ति के मन मस्तिष्क पर सकारात्मक विकसित होते हैं। सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या का विश्लेषण करें तो पाएंगे तो शनि के प्रकोप के चलते उन्होंने ऐसा प्राण घातक कदम उठाया।

मंगल एवं राहु का समावेश का जातक पर प्रभाव

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार मंगल और राहु ग्रहों की चाल व्यक्ति को अवसाद की स्थिति पर पहुंचाने का कारण माने जाते हैं ।यह दोनों ग्रहों की भूमिका व्यक्ति को दुस्साहस अर्थात जोखिम लेने के लिए प्रेरक का कार्य करते हैं, जिससे व्यक्ति में आत्महत्या की प्रवृत्ति जन्म लेती है।

क्या ज्योतिष विद्या में ग्रह नक्षत्रों को पूजा पाठ के माध्यम से शांत किया जा सकता है?

Astro Dino के अनुसार हमारे प्राचीन ग्रंथ एवं शास्त्रों में इस आत्मघाती समस्या से समाधान निकालने के लिए शिव की स्तुति, महामृत्युंजय मंत्रों का उच्चारण, देवी कवच, शिव कवच एवं अपने इष्ट देव भगवान शिव का अभिषेक बेहद ही सरल एवं सफल उपायों में से एक है ।

ग्रहों के विपरीत चाल से व्यक्ति का जीवन चक्र प्रभावित होता है। इसके दुष्प्रभाव को रोकने के लिए शुभ ग्रह की स्तुति एवं नीच ग्रह को शांत करने के लिए दान देना श्रेष्ठ कर माना जाता है।

युवा वर्ग आज के समय में सबसे अधिक इस समस्या की गिरफ्त में आ चुका है। तनाव के चलते मनुष्य के अंतर्मन मन में बार-बार आत्महत्या करने का विचार आते है । इन विचारों से बचने के लिए व्यक्ति को समाधान के रूप में Best Astrologer से अपना Horoscope विश्लेषण करवा के मोती एवं स्फटिक को शरीर में धारण करना चाहिए भगवान शिव को जल से अभिषेक करना चाहिए । इसके अतिरिक्त पांच प्रकार( wheat, Jwar, moog and barley) का दान करना चाहिए ।

पंछियों के लिए दाने छत पर डाल दे यह भी काफी प्रभावी होता है। ग्रहों के दुष्प्रभाव को रोकने एवं उनको शांत करने में यह उपाय काफी कारगर साबित होता है ।

आप भी अगर अपने जीवन से संतुष्ट नही है या Depression से ग्रसित है तो एक बार जरूर AstroKavach के संस्थापक और अंतर्राष्ट्रीय गौरव प्राप्त Astro Dino से सम्पर्क कर सकते है और अपना समस्या बता कर उपाय जान सकते है।

For more solution connect celebrity Astrologer #AstroDino. Having more than 15 yrs work experience in horoscope and more than 15k satisfied clients. www.astrokavach.co.in

Share it!!

Leave a Reply